वर्ष 2013 में आयोजित विशेष कार्यक्रम :-

  • नूतन वर्षाभिनंदन 'श्री जिनसहस्त्रनाम मण्डल विधान आयोजन द्वारा श्री जिनेन्द्र चरणो में सादर वंदन:
  • 'अध्यात्मतीर्थ आत्म साधना केंद्र के पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव की आठवीं वर्षगांठ के अवसर पर रविवार 17 फरवरी 2013 को 'श्री आदिनाथ एवं भरत बाहुबली मण्डल विधान' व प्रवचन का आयोजन बाल ब्र. जतीशचंद शास्त्री के सानिध्य में किया गया।
  • फाल्गुन माह की अष्टान्हिका महापर्व पर 'श्री भक्तामर मण्डल विधान एवं आध्यात्मिक प्रवचनों का आयोजन विधानाचार्य विद्वानों एवं विधानचार्यों के मंगल सानिध्य में दिनांक 20 मार्च से 27 मार्च 2013 तक हुआ।
  • आध्यात्मिक सत्पुरुष पूज्य श्रीकानजी स्वामी के 124 वें जन्मदिवस के उपलक्ष्य में उपकार दिवस कार्यक्रम का आयोजन प्रतिवर्ष की भांति सप्तम आध्यात्मिक शिक्षण शिविर के रूप में दिनांक 31 मार्च से 7 अप्रैल 2013 तक मनाया गया। इस अवसर पर 'श्री पंचबालयति तीर्थंकर मण्डल विधान' का भव्य आयोजन किया गया।

जिसमें बाल ब्र. प्रतिष्ठाचार्य श्री जतीशचंद शास्त्री के निर्देशन में एवं ब्र. सुमतप्रकाश जी खनियाँधाना, पं. राजेंद्रकुमारजी जैन जबलपुर, पं.शैलेषभार्इ तलोद, पं. रजनी भार्इ दोशी हिम्मतनगर, पं. अनिलजी शास्त्री भिण्ड के सानिध्य में विधान पूर्व आध्यात्मिक शिक्षण शिविर की कक्षाएं तथा भक्ति, प्रवचन का आयोजन किया गया।

शिक्षण शिविर के मध्य 'आत्मार्थी कन्या विधा निकेतन' में प्रवेशेच्छुक पात्र कन्याओं का निर्देशिका विदुषी राजकुमारी जैन के निर्देशन में साक्षात्कार कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।

शनिवार 6 अप्रैल को आत्मार्थी कन्या विद्या निकेतन के चतुर्वर्षीय पाठयक्रम का अध्ययन पूरा करने वाली द्वितीय बैच की क

न्याओं का दीक्षांत समारोह श्रीमती सरिता अशोकजी जैन, ग्रीनपार्क, दिल्ली की अध्यक्षता तथा श्रीमती गीतिकाजी संदीपकुमाजी जैन कालकाजी, दिल्ली, डा. माधुरीजी शरदजी जैन भोपाल, श्रीमती कुसुमजी प्रदीपजी चौधरी किशनगढ़ आदि के विशिष्ट आतिथ्य में सम्पन्न हुआ।

शिविर के अंतिम दो दिनों में आध्यात्मिक सुत्पुरुष श्री कानजी स्वामी के 'उपकार दिवस' कार्यक्रम के अन्तर्गत विद्वत् गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमे पं. अभयकुमारजी जैनदर्शनाचार्य, देवलाली आदि विद्वानों ने पू. श्री कानजी स्वामी के प्रति और जिनवाणी प्रचार प्रसार निमित्त उपादान निश्चित व्यवहार क्रमब्रद्धपर्याय आदि विभिन्न विषयाधारित आदरांज्जवलि अभिव्यक्त की।

  • श्रुतपंचमी पर्व के उपलक्ष्य में 14 जून 2013 को श्री सरस्वती मण्डल विधान एवं प्रवचन का आयोजन विदुषी राजकुमारी दीदी के सानिध्य में किया गया।
  • आषाढ़ माह की अष्टनहिका पर्व पर दिनांक 15 जुलार्इ से 22 जुलार्इ 2013 तक पं. अशोकजी जैन, उज्जैन के सानिध्य में श्री णमोकार मण्डल विधान, विद्वानों एवं आत्मार्थी ट्रस्ट की विदुषियों द्वारा मांगलिक प्रवचनों का लाभ मिला।
  • श्रावण कृष्ण प्रतिपदा के दिवस मंगलवार 23 जुलार्इ 2013 को श्री वीर शासन जयंती के उपलक्ष्य में श्री महावीर स्वामी पंचकल्याणक विधान का आयोजन पं. जतीशचंद शास्त्री के निर्देशन में हुआ।
  • शाश्वत महापर्व दशलक्षण पर्व के मंगलमयी अवसर पर दिनांक 9 सितंबर से 18 सितंबर 2013 तक पं. प्रदीप कुमार जी झांझरी उज्जैन एवं पं. मधुकर जी जलगांव, पं. सुनील जी धवल भोपाल, पं. कांतिकुमार जी इन्दौर के मंगल प्रवचन तथा श्री प्रवचनसार महामण्डल विधान पं. श्री जतीशचंद शास्त्री के निर्देशन में सम्पन्न हुआ।

19 सितम्बर 2013 को सामूहिक क्षमावाणी एवं विद्वत सम्मान समारोह का आयोजन श्री सुशीलजी पूनमचंदजी सेठी, ग्रेटर कैलाश, दिल्ली की अध्यक्षता में एवं श्री अशोकजी जैन असिस्टेंट डायरेक्टर (SFIO) कॉर्पोरेट मिनिस्ट्री आदि गणमान्यों के मुख्य आतिथ्य में किया गया, जिसमें दिल्ली व दिल्ली के आसपास के क्षेत्र, देश के विभिन्न क्षेत्रों से आए विद्वानों एवं विदुषियों का सत्कार, देवलाली से पधारे पं अभयकुमार जी शास्त्री के मंगल प्रवचन हुए।

  • श्री वीरप्रभु निर्वाण दिवस एवं गुरूवर गौतमस्वामी के केवलज्ञान प्राप्ति दिवस के उपलक्ष्य में 3 एवं 4 नवम्बर 2013 को श्री महावीर पंचकल्याणक मंडल विधान का आयोजन बाल ब्र. जतीशचंद शास्त्री के निर्देशन में किया गया। विधानाचार्य पं. सुनील जी धवल भोपाल द्वारा तथा मांगलिक प्रवचन उदबोधन पं. श्री अनिल कुमार जैन इंजीनियर उज्जैन द्वारा हुआ। तथा इस अवसर पर आत्मार्थी ट्रस्ट परिसर में विराजित सर्व जिनेन्द्र भगवंतों के समक्ष सुसज्जित निर्वाण फल समर्पण।
  • दिनांक 10 नवम्बर से 17 नवम्बर 2013 तक कार्तिक माह की अष्टान्हिका महापर्व के मंगल अवसर पर शाशवत् सिद्धधाम श्री सम्मेदशिखर से निर्वाण प्राप्त बीस तीर्थंकर विधान का आयोजन पं. रमेशचंद जी सनावद के विधानाचार्यत्व में एवं पं. निर्मलचंदजी (एडवोकेट) ऐटा एवं श्री अनिल कुमारजी शास्त्री भिण्ड के मंगल प्रवचनों का लाभ मिला।
  • वर्ष के अंत में, शीतकालीन अवकाश के समय एवं नूतन वर्षाभिनंदन के उपलक्षय में 26 दिसम्बर 2013 से 2 जनवरी 2014 तक श्री सिद्धचक्र महामण्डल विधान का आयोजन बड़नगर निवासी श्री बाबूलालजी सुपुत्र श्री अनिलजी, भार्इ संजयजी पाटोदी द्वारा 250 मुमुक्षु भार्इ बहिनों का यात्रासंघ लाकर आत्मार्थी ट्रस्ट में किया। प्रतिष्ठाचार्य बाल ब्र. जतीशचन्द शास्त्री श्री के निर्देशन एवं विधानाचार्यत्व में सम्पन्न हुआ, जिसमें विद्वान पं. श्री डा उत्तमचंदजी सिवनी, पं. वीरेन्द्रकुमार जी आगरा, पं. श्री अनिलजी शास्त्री भिण्ड, इत्यादि के मंगल प्रवचनों का लाभ प्राप्त हुआ। सहयोगी विधानाचार्य पं. सुनीलजी धवल भोपाल, पं. सुबोधजी शास्त्री शाहगढ़़, पं. रमेशजी गायक इन्दौर, पं. अशोकजी उज्जैन थे।

दशलक्षण पर्व


निर्वाण उत्सव


सिधचक्र विधान


उपकार दिवस